June 17, 2024

Month: September 2023

Ukraine on Saturday criticised the statement issued by the G20 leaders on the Russian invasion denouncing the use of force for territorial gain but refraining from direct criticism of Moscow.

“Ukraine is grateful to the partners who tried to include strong wording in the text,” said Oleg Nikolenko, a spokesperson for the Ukrainian Foreign Affairs Ministry. “At the same time, in terms of Russia’s aggression against Ukraine, the Group of 20 has nothing to be proud of.”

The G20 had adopted the New Delhi Leaders’ Declaration, under which member countries committed to ensuring “strong, sustainable, balanced and inclusive growth”. While the declaration called on all states to refrain from using force to “seek territorial acquisition”, it did not specifically mention Russia in the context of the Ukraine war.

The declaration

With respect to the conflict in Ukraine, the New Delhi Declaration said that all states “must refrain from the threat or use of force to seek territorial…

Read more

American teenager Coco Gauff came from behind to win the US Open on Saturday, clinching her first Grand Slam title with a battling win over Aryna Sabalenka of Belarus.

Gauff, 19, produced a gutsy performance in the Arthur Ashe Stadium to win 2-6, 6-3, 6-2 in 2hr 6min to complete a fairytale transformation in her season’s fortunes.

The sixth seed from Florida had gone into the final as the underdog against the hard-hitting second seed Sabalenka, who will become world No 1 in next week’s rankings.

But with both players making a slew of mistakes throughout an error-strewn final watched by a star-studded record crowd of 28,143 it was Gauff who held her nerve when it mattered to seal a deserved victory.

The win completed a remarkable turnaround for Gauff, who was left distraught after a first round exit at Wimbledon in July.

However she bounced back to win titles in Washington and Cincinnati and has now landed the biggest win of her career, after a shattering loss in her first Grand Slam final at the French Open last year.

“It means so much to me,” an elated Gauff said afterwards. “I feel like I’m a little bit in shock in this moment.

“That French Open loss (last year) was a heartbreak for me….

Read more

This article was originally published in our weekly newsletter Slow Lane, which goes out exclusively to Scroll Members. If you would like to get perceptive pieces of reporting and analysis like this directly in your inbox every Saturday, become a Scroll Member or upgrade your membership today.

Thanks to the Narendra Modi government, our political news now unfolds like a suspense-filled OTT series.

Last week, we were hit by the surprise announcement of a special session of Parliament, followed by the appointment of a panel to examine how India can hold elections to the Lok Sabha and state assemblies simultaneously.

This week, while we were still agonising over the possibility of “one nation, one election”, an even more existential question cropped up – a G20 dinner invitation sent out in the name of “President of Bharat” set off speculation about whether the nation itself could be renamed.

In such sensational times, it is understandable that a report that reiterated a known fact – that the ruling Bharatiya Janata Party is by far the richest party in India – did not elicit major interest. Nor did an assembly bye-election in Uttar Pradesh.

But there is a reason why we should be paying attention to both.

The Modi government derives its legitimacy from the idea that Indian democracy, no matter how…

Read more

Over the last four decades, I have taken part in countless academic seminars and literary festivals. The most recent took place last month, and was held in the southern hill town of Udhagamandalam, popularly known as Ooty. Billed as a “Conference for the Nilgiris in the Nilgiris”, it sought to envision a “bioculturally sustainable future” for this beautiful and vulnerable mountain district of Tamil Nadu. The speakers included the foremost social scientists and natural scientists who have worked in the region alongside citizen-activists, entrepreneurs, teachers, and tribal elders. In terms of diversity of participants and the quality of the presentations, this was one of the most enjoyable and educative seminars I have ever attended.

I have a personal connection to the Nilgiris. My father was born in Ooty and, as adults, my parents met and fell in love in that same town. However, I was myself born and raised at the other end of the subcontinent, in the foothills of the Garhwal Himalaya. It was in the interior hills of Garhwal that I did my first piece of sustained research. I actually first visited the Nilgiris only when I was 40. However, in the past quarter of a century, I have spent…

Read more

As a 19-year-old conscript, Ari Folman was a soldier in the Israeli army when it invaded Lebanon in June 1982. Israel had taken its battle with the Palestinian Liberation Organisation into neighbouring Lebanon, where Palestinian fighters were sheltering. By September, despite a ceasefire, Israeli forces remained in Lebanon. Some of them were there to witness a massacre that took place that month in Sabra and the Shatila refugee camp in Beirut.

The massacre was carried out by members a Lebanese Christian right-wing party to avenge the assassination of the country’s president, Bachir Gemayel. Hundreds, possibly thousands, of civilians on the watch of an Israeli unit.

Folman had repressed memories of his deployment in Lebanon as well as the horrors of Sabra and Shatila. Waltz with Bashir is the Israeli filmmaker’s attempt to face his past. In the process, he reminds his country of its involvement with one of the worst attacks on civilians in recent history.

What makes Waltz with Bashir singular is its form. The film is an animated documentary that includes interviews with other soldiers in Folman’s unit, recreated sequences of the Lebanon War, and dream sequences. Animation proves to be a perfect choice to depict the surrealist nature of Folman’s experiences, his guilt over what…

Read more

In 2014, the novelist Amit Chaudhuri launched a project called Literary Activism, beginning with a Symposium held in Calcutta. This movement, unique in the history of Indian letters in some respect, has tried to slowly reorient the conversation around literature toward its purported object, the “literary”’.

What exactly does the literary stand for? What distinguishes it from other modalities of thought? These are some of the questions that the subsequent symposia have tried to elaborate upon and grapple with. There is also a website, literaryactivism.com, which has published a series of essays, poems, and fiction drawn from the various contributors at the symposia.

Arvind Krishna Mehrotra has in some sense been a lifelong insurgent in the world of Indian poetry. His early years as an Indian poet writing in English were spent trying to find platforms that would take this form of writing seriously. Failing this he went on to create his own “little magazines” and founded the pioneering Clearing House publications along with the poets Arun Kolatkar, Gieve Patel, and Adil Jussawalla. This year, Literary Activism, in collaboration with Westland and Ashoka University has launched a new imprint, beginning with the publication of Mehrotra’s first collection of poems in 25 years, Book of Rahim…

Read more

Nehru and the Spirit of India by Manash Firaq Bhattacharjee is a timely intervention at a time when India’s first Prime Minister Jawaharlal Nehru’s legacy is being contested in political and intellectual arenas. The deepest and most far-reaching of these invisible impacts is the ideological impression Nehru left on the very imagination of India as a nation. Ever since India gained independence, the RSS and the political dispensations associated with it, the Bhartiya Jan Sangh and its successor, the Bharatiya Janata Party, have always questioned the vision and idea of India that has played a dominant role in the political and cultural imaginations of the nation.

One strategy adopted by the Hindutva ideologues in their discourse is to present Nehru as a secularist and marginalise his contribution to imagining the Indian nation and nationalism. Such a strategy seems to work perhaps because the idea of secularism is associated most often with state institutions and policy, and not so much with nationalism. This assumption operates much more in the grossly oversimplified discussions in the popular public discourse, particularly when nationalism and secularism themselves are presented as being necessarily opposed to each other.

The national and the secular according to Nehru

However, the specific history of Indian nationalism in…

Read more

इंटरनेट डेस्क। 10 सितंबर 2023 रविवार का दिन आपके लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है। आपके सारे काम आगे से आगे बनते जाएंगे। साथ ही ग्रहों की चाल भी आपके अनुकुल होगी। साथ ही सितारे भी आपका पूरा साथ देंगे। जानते है आज का राशिफल।

मेष राशि
मेष राशि के जातकों के लिए आज का दिन अच्छा रहेगा। नौकरी करने वाले जातकों के अधिकारी आपसे प्रसन्न रहेंगे। आपको आपके कार्य क्षेत्र में कोई बड़ा ऑफर दिया जाएगा।

वृषभ राशि
वृषभ राशि के जातकों के लिए आज का दिन सामान्य रहेगा। आपको आपकी नौकरी में कार्य करने के नए अवसर प्राप्त हो सकते हैं।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों के लिए आज का दिन परेशानी वाला रहेगा। आप किसी प्रकार की विपत्ति में फंस सकते हैं।

कर्क राशि
कर्क राशि के जातकों के लिए आज का दिन परेशानी वाला रहेगा। आप किसी परेशानी में फंस सकते हैं, तथा उससे उभरने के लिए आपको बड़ा धन खर्च करना पड़ सकता है।

सिंह राशि
सिंह राशि के जातकों के लिए आज का दिन अच्छा रहेगा। आपको आपका कोई पुराना रुका हुआ धन प्राप्त हो सकता है।

कन्या राशि
कन्या राशि के जातकों के लिए आज का दिन शानदार रहेगा। आप किसी बड़े कार्य में अपने धन को इन्वेस्ट कर सकते हैं।

तुला राशि
तुला राशि के जातकों के लिए आज का दिन थोड़ा सा परेशानी वाला रहेगा। सेहत की बात करें तो आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेगा।

वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि के जातकों के लिए आज का दिन ठीक-ठाक रहेगा। यदि आप किसी वाहन का इस्तेमाल करते हैं तो, वाहन संभाल कर चलाएं।

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए आज का दिन बहुत अच्छा रहेगा। आप अपने परिवार के साथ किसी धार्मिक यात्रा पर अपनी मन्नत पूरी करने के लिए जा सकते हैं।

मकर राशि
मकर राशि के जातकों के लिए आज का दिन बहुत उपयुक्त रहेगा। आपके परिवार में यदि कोई पुराना विवाद चल रहा था तो वह खत्म हो सकता है।

कुंभ राशि
कुंभ राशि के जातकों के लिए भी कल का दिन बहुत ही शानदार रहेगा। व्यापार करने वाले जातकों के लिए, दिन अच्छा रहेगा। आपके व्यापार में नए अवसरों की प्राप्ति हो सकती है।

मीन राशि
मीन राशि के जातकों के लिए आज का दिन थोड़ा सा चिंता भरा रहेगा। आप अपने धन को लेकर थोड़े से चिंतित हो सकते हैं।

pc- webdunia,rewariyasat.com,rewariyasat.com,

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनावों के पहले कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने पार्टी का हाथ छोड़कर शिवसेना (एकनाथ शिंदे गुट) का दामन थाम लिया है। एकनाथ शिंदे गुट महाराष्ट्र में भाजपा के साथ मिलकर सरकार चला रहा है। बता दें की विधानसभा में अपनी ही सरकार को महिला सुरक्षा के मामले में घेरकर राजेंद्र गु़ढ़ा सुर्खियों में आ गए थे जिसके बाद सीएम ने उन्हें कैबिनेट मंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया था।

वहीं महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने आज उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। एकनाथ शिंदे आज गुढ़ा के विधानसभा क्षेत्र में आए थे। यहां उन्होंने राजेंद्र गुढ़ा के बेटे शिवम के जन्मदिन में शिरकत की और यही गुढ़ा ने पार्टी ज्वाइन करली। हालांकि ये पहले ही तय हो चुका था।

बता दें कि राजस्थान सरकार की कैबिनेट से बर्खास्त होने के बाद राजेंद्र गुढ़ा 24 जुलाई को एक लाल डायरी लेकर विधानसभा पहुंचे थे और उन्होंने दावा किया था कि डायरी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ आरोपों की पूरी लिस्ट है और भ्रष्टचार का पूरा चिट्ठा इसमें है।

pc- one india hindi

इंटरेनट डेस्क। राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय ने 04 कारपेंटर, आर्टिस्ट और विभिन्न पदों पर सीधी भर्ती के लिए आवेदन मांगे है।

शैक्षिक योग्यता- पदो के अनुसार

पदों का नाम-

आर्टिस्ट
मॉडलर/प्रदर्शनी तैयारकर्ता
प्रोजेक्शनिस्ट
कारपेंटर

कुल वैकेंसी – 04 पद

महत्वपूर्ण तिथियाँ –
आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि 20-09-2023

आयु सीमा- 18-25 वर्ष

सिलेक्शन – इंटरव्यू के आधार पर

सैलरी- नियमानुसार होगी।

आवेदन कैसे करें – आफिशियल वेबसाइट देख सकते है।

pc-siasat.com

इंटरनेट डेस्क। मार्केट में वैसे तो अमरूद आपको सर्दियों में भरपूर तरीके से मिलते है, लेकिन अभी इस मौसम में भी आपको अमरूद मिल जाएंगे। ऐसे में आपको भी अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी खाने का शौक है तो आज हम आपके लिए लाए है इसकी रेसिपी जो आपको जरूर पसंद आएगी।

सामग्री
3 बड़े अमरूद
6 हरी मिर्च
1/2 चम्मच जीरा
1 चम्मच चीनी
स्वादनुसार नमक
1 चम्मच नींबू का रस
1/4 कप पुदीना के पत्ते
1/2 चम्मच अदकर

विधि

आपको चटनी बनाने के लिए अमरूद को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लेना है और एक बड़े पानी के बर्तन में पुदीना के पत्तों को तोड़कर भिगने के लिए छोड़ देना है। इसके साथ ही अदरक को बारीकी से काट ले और अब सभी चीजों को मिक्सी में डालकर अच्छे से पीस लें। अब ब्लेंड करने के बाद चटनी में थोड़ा सा पानी डालकर दोबारा पीसें। तैयार है आपकी अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी।

pc- youtube

इंटरनेट डेस्क। हर किसी का मन होता है की वो अपने जीवन में एक ना एक बार विदेश की यात्रा करे। ऐसे में आपने अगर आज तक किसी भी विदेशी कंट्री की यात्रा नहीं की है तो आपको बता रहे है कुछ ऐसे देेशों के बारे में जहां आप जा सकते है और घूूम सकते है। यह आपको जरूर पसंद आएंगे।

सिंगापुर
बता दें की अधिकतर इंडियन विदेश में घूमने के नाम पर सिंगापुर का टिकट करवाते है। ऐसे में आप भी अगर जाने की सोच रहे है तो आप यहां जा सकते है। यह देश सबसे अमीर देशों की लिस्ट में तीसरा नंबर पर है और सुदरता इतनी की आप देखकर होश खो बैठेंगे।

कतर
वहीं सबसे अमीर देशों में अगर चौथा देश है तो वो कतर है। वैसे खाड़ी देश है। लेकिन यहा भी खूब लोग घूमने के लिए आते है। अगर आपका भी मन कतर की यात्रा करने का है तो फिर आप भी यहां आ सकते है।

pc- webdunai,bhaskar,dw.com

इंटरनेट डेस्क। आप भी घूमने के लिए कभी विदेश नहीं गए है और अबकी बार आपका मन घूमने का विदेश का हो रहा है तो फिर आपको जरूर यहां की ट्रिप करनी चाहिए। इसका कारण यह है की यह जगहे इतनी सुंदर है की आप एक बार जरूर यहां आए, बार बार तो आपको विदेश की यात्रा का मौका मिलता नहीं है। ऐसे में आप आ सकते है।

आयरलैंड
सबसे ज्यादा अमीर देशों की लिस्ट में पहला नंबर आयरलैंड का है। वैसे ये काफी छोटा सा देश है लेकिन यहां आपको घूमने के लिए शानदार जगह मिल जाएगी। ऐसे कमें आप भी इस बार का टिकट यहा का करवा सकते है और घूमकर जा सकते है।

लक्समबर्ग
वहीं आप घूमने के लिहाज से सबसे अमीर देशों की लिस्ट में दूसरे नंबर के देश लक्समबर्ग भी जा सकते है। यहां कई अन्य देशों के लोग घूमने के लिए आते है। यहां की खूबसूरती ऐसी है जो आपके दिल में बस जाएगी।

pc-telegraph.co,planetware.com,britannica.com

इंटरनेट डेस्क। फलोें का सेवन करना और उनका जूस पीना स्वास्थ्य के लिए बड़ा ही फायदेमंद बताया गया है। अगर आप भी फले के जूस का सेवन करते है तो यह बहुत ही अच्छो है। लेकिन क्या आपको यह पता है की कौनसे फलों का जूस खाली पेट पीने से ज्यादा फायदा होता है। अगर नहीं तो फिर आज हम आपको बता रहे है उन फलों के बारे में।

अनार का जूस
आप अगर खाली पेट अनार का जूस पीते है तो उसका फायदा है। इसे पीने से इम्युनिटी मजबूत होती है और आपको कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है। इसके साथ ही अनार का जूस एनीमिया की समस्या को भी दूर करने में भी बेहद कारगर है।

सेब का जूस
इसके अलावा आप सेब का जूस भी पी सकते है। इसमें विटामिन ए की अच्छी-खासी मात्रा पाई जाती है। अगर आप खाली पेट इसका जूस पीते हैं, तो इससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

pc- zee news,abp news,abp news

इंटरनेट डेस्क। एलोवेरा में आयुर्वेद के अनुसार बहुत सारे औषधीय गुण पाए जाते है। इसके प्रयोग से आपकी स्किन तो चमकदार बनती ही है, साथ इसके सेवन से आपकी हेल्थ भी सुधरती है। वैसे बता दें की एलोवेरा में प्रोटीन, विटामिन और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो सेहत के लिए बहुत लाभदायक है। अगर आप इसके जूस का सेवन करते है तो ये और भी फायदा पहुंचाता है।

पाचन को बढ़ावा देता है
आप अगर एलोवेरा जूस का सेवन करते है तो यह शरीर को स्वस्थ रखने के साथ साथ पाचन तंत्र को भी मजबूत करता है। साथ ही कब्ज, एसिडीटी और पाचन से जुड़ी अन्य समस्याएं में भी ये फायदेमंद होता है।

हाइड्रेशन
इसके साथ ही एलोवेरा में पानी की मात्रा भी खूब पाई जाती है। यह आपके शरीर को भी हाइड्रेटेड रखने में मदद करती है। अगर आप रोजाना सुबह खाली पेट एलोवेरा का जूस पी सकते हैं तो इससे शरीर का टॉक्सिक पदार्थ बाहर निकल जाएंगे।

pc- abp news,amar ujala,naidunia

इंटरनेट डेस्क। आपने देखा होगा लोग अपना वेट कम करने के लिए खूब मेहनत करते है और यहां तक की खाना पीना तक छोड़ देते है। ऐसे में आप भी अगर वेट कम करने की जर्नी में शामिल है तो आज आपको बता रहे है कुछ ऐसे हेल्दी ड्रिंक जिनके सेवन से आप अपना बढ़ता वजन कम कर सकते है।

छाछ
आप अपनी डाइट में छाछ को शामिल करें। इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है। यह प्रोबायोटिक्स से भरपूर होती है साथ ही पाचन के लिए छाछ काफी फायदेमंद भी होती है। एसे में जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए छाछ पीना फायदेमंद हो सकता है।

ग्रीन टी
इसके साथ ही आप ग्रीन टी का भी सेवन वेट कम करने के लिए कर सकते है। ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट्स गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते है। अगर आप वेट कम करना चाहते हैं, तो रोजाना ग्रीन टी जरूर पिएं।

pc- abp news, 1MG,ndtv.in

इंटरनेट डेस्क। आपने हर किसी से कहते सुना होगा सुबह सुबह भिगे हुए चने खाने चाहिए। इसका सेहत पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। जी हां अगर आप भी काले चनों का सेवन करते है तो यह आपके लिए बड़े ही काम है। इनके सेवन से आपका कई बीमारियों में फायदा मिलता है। तो आए जानते है इनके फायदे के बारे मेें।

दिल को स्वस्थ रखने में मददगार
आप अगर काले चने का सेवन करते है तो यह दिल के स्वास्थ्य के लिए बड़े ही फायदेमंद है। इनमें एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोन्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं। जो हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। नियमित रूप से काले चने का सेवन करते है तो इससे आप दिल स्वस्थ रहता है।

वजन घटाने में मददगार
इसके साथ ही आप काले चने का सेवन कर अपना वेट भी कम कर सकते है। इनमें प्रोटीन और फाइबर की मात्रा अधिक होती है। जो वजन कम करने में मदद करता है। रात भर पानी में काले चने भिगो दें और सुबह इसे नाश्ते के रूप में खा सकते हैं।

.pc- amar ujala,jagran,aaj tak