April 16, 2024

Breaking News

Shiv Sena (Uddhav Balasaheb Thackeray) MP Sanjay Raut on Wednesday said that the Bharatiya Janata Party was trying to destroy social harmony in the state, reported The Hindu.

The Rajya Sabha MP’s remarks came after the state government on Tuesday constituted a Special Investigation Team to inquire into an alleged attempt by Muslim men to forcibly enter the Trimbakeshwar temple in Nashik.

The order was issued after the temple authorities filed a police complaint alleging that on May 13, a group of Muslims attempted to offer a chadar – a ceremonial cloth printed with religious verses – to Hindu deity Shiva. Four Muslim men have also been arrested in the case.

However, Muslim community leaders have claimed that they were only following a decades-old ritual of offering frankincense at the entrance of the temple. The temple authorities have denied that any such tradition exists.

“There is a 100-year-old tradition where devotees of the Sufi saint Gulab Shah Sandal offer frankincense at the steps of the Trimbakeshwar temple during their procession and pass on,” Raut said on Wednesday, according to The Hindu. “…No one forcibly attempted to enter the temple.”

He added that such traditions of communal harmony are common across the country and said that the state government was deliberately trying to destroy the social equilibrium in…

Read more

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान केजैसलमेर जिलेकलेक्टर टीना डाबी एक बार फिर सुर्खियां में है, पलहे निकाह, फिर तलाक, फिर शादी और अब एक और नया काम उनको सुर्खियों में ले आया है। जानकारी के अनुसार राजस्थान केजैसलमेर में जिला कलेक्टर टीना डाबी के आदेश के बाद अमर सागर पंचायत की कई बीघा जमीन पर रह रहे पाक विस्थापित हिंदुओं के आशियाने पर बुलडोजर चला दिया गया है।

इसके बाद से ही टीना डाबी की आलोचना हो रही है। उनके आदेश के बाद जैसलमेर में घरों को ढहा दिया गया है। खबरों की माने तो बच्चों समेत 150 से ज्यादा लोग बेघर हो गए हैं। अब वे सब खुले आसमान के नीचे तपती धूप में रहने को मजबूर हैं। इससे पहले जोधपुर में भी विस्थापितों के आशियाने पर बुलडोजर चला था।

जानकारी के अनुसार जैसलमेर के नगर विकास न्यास ने अमर सागर पंचायत की जमीन से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की है। इस मामले में प्रशासन का कहना है कि ये विस्थापित परिवार अमर सागर तालाब के किनारे अवैध मकान बनाकर रह रहे हैं। इस कारण तालाब के पानी की आवक रुक गई। साथ ही यह भूमि काफी कीमती भी बताई जा रही है।

pc- danik bhaskar

इंटरेनट डेस्क। कर्नाटक में पिछले चार दिनों से कांग्रेस में सीएम पद को लेकर चल रही खींचतान आखिरकार देर रात को समाप्त हो गई। कई बैठकों और समझाईश के बाद तय हो गया की सिद्धारमैया की कर्नाटक के सीएम होंगे। साथ ही डीके शिवकुमार डिप्टी सीएम होंगे। दोनों मिलकर अब प्रदेश को चलाएंगे।

मीडिया रिपोटर्स की माने तो कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से लंबी चर्चा के बाद कर्नाटक में सरकार के गठन के लिए आम सहमति बनी। शपथ ग्रहण समारोह शनिवार यानी 20 मई को बेंगलुरु में आयोजित किया जाएगा। सिद्धारमैया के नाम पर औपचारिक मुहर लगाने के लिए आज शाम सात बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है।

इसके बाद कांग्रेस नेता राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। इससे पहले सिद्धारमैया और शिवकुमार ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ दिल्ली में अलग-अलग मुलाकात की। कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस ने 135 सीटों पर जीत हासिल की है। वहीं बीजेपी को 66 सीटे मिली है तो जेडीएस 19 सीटों पर सिमट गई है।

pc- aaj tak

Twenty-seven regional political parties received Rs 887.551 crore, or 76.14% of their total declared income, from unknown sources in 2021-’22, a report by the Association for Democratic Reform said on Tuesday.

The report also found that Rs 827.76 crore, or 93.26%, of the income from unknown sources came from electoral bonds.

Electoral bonds are monetary instruments that citizens or corporate groups can buy from a bank and give to a political party, which is then free to redeem them for money. The Centre first introduced electoral bonds in January 2018.

The Association for Democratic Reforms defined income from known sources as that for which donor details are available through contribution reports submitted to the Election Commission of India. Income from unknown sources is that which is declared in the annual audit reports, but the source of income is not given.

Currently, political parties have to disclose all donations above Rs 20,000 in their contribution reports.

The 27 regional parties analysed in the report on Monday had declared a total income of Rs 1,165.57 crore in 2021-’22. Of this, Rs 145.42 crore, or 12.48%, was from known donors.

The Dravida Munnetra Kazhagam had the highest income from unknown sources (Rs 306.02 crore), followed by the Biju Janata Dal (Rs 291.09 crore), the Bharat Rashtra Samithi (Rs…

Read more

इंटरनेट डेस्क। गर्मी का सीजन चल रहा है लेकिन उसके साथ ही अब मानसून की शुरूआत होने वाली है। जून के शुरूआत में देश में मानसून दस्तक दे देता है। इसकों लेकर मौसम विभाग की एजेसिंयों की और से नया अपडेट सामने आया है। बताया जा रहा है की इस बार मानसून अपने तय समय से चार दिन बाद एंट्री करेगा।

मौसम विभाग के मुताबिक, इस साल मॉनसून थोड़ी देरी से आ सकता है। मीडिया रिपोर्ट की माने तो मौसम विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, इस साल मॉनसून 04 जून तक एंट्री लेगा। वैसे दक्षिण-पश्चिम मॉनसून 1 जून को केरल में प्रवेश करता है। लेकिन इस बार मॉनसून के केरल में प्रवेश करने की तारीख 04 जून बताई जा रही है।

बताया जा रहा है की केरल में मॉनसून की शुरुआत सामान्य से चार दिन की देरी से होगी। पिछले साल मॉनसून की एंट्री 29 मई को हुई थी। मौसम विभाग ने पिछले महीने बताया था कि इस साल भारत में सामान्य बारिश होनी है। अल-नीनो के बावजूद भी इस साल भारत में सामान्य बारिश दर्ज की जाएगी।

pc-hamaramahanagar.net

As the crowing of a rooster signals the break of dawn in Taplejung in eastern Nepal, two men grab their slingshots and head out to work. They know they have a long day ahead of them, guarding the orange trees from the hungry monkeys that roam the forests.

These staffers at the orange research centre in Taplejung aren’t alone in their struggle. Across Nepal’s central hill country, thousands of farmers face the same problem: troops of rhesus macaques (Macaca mulatta), accustomed to human food, enter their fields, leaving behind a trail of destruction and exasperated farmers.

“Sometimes we feel that we are farming not to feed ourselves, we are doing it for the monkeys,” says Ram Prasad Timsina from Pokhara. “They are not afraid to attack us if they find us alone.”

Fed up with the monkeys, everyone from farmers to government officials at the municipal through to national levels have long been looking for quick-fix solutions to the issue. Then recent reports emerged from another South Asian country, Sri Lanka, that’s also dealing with crop-raiding macaques. That country’s agriculture minister announced the proposed export of 1,00,000 toque macaques (Macaca sinica) to China in a bid “to control their population”.

While the government in Colombo said the monkeys would be sent to zoos in…

Read more