April 16, 2024

Election

IOB Daily Marathi News Paper 11th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 11 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 10th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 10 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 9th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 9 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 8th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 8 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 7th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 7 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 6th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 6 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 5th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 5 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 4th April Edition

IOB दैनिक मराठी वृत्तपत्र 4 एप्रिल आवृत्ती

IOB Daily Marathi News Paper 3rd April 2024

3 एप्रिलच्या आवृत्तीत त्रुटी
तारीख ४ एप्रिल अशी छापली होती, वाचक कृपया ३ एप्रिल वाचा

IOB Daily Marathi News Paper 2nd April 2024

IOB Daily Marathi News Paper 1st April 2024

IOB Daily Marathi News Paper 31st March 2024

IOB Marathi Daily News Paper

जयपुर। राजस्थान में 19 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के मतदान से पहले होम वोटिंग का दौर चालू है। होम वोटिंग के पांचवें दिन मंगलवार को जयपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में फिर से बड़ी संख्या में लोगों ने मतदान किया है। मंगलवार को जयपुर शहर में 95.56 फीसदी एवं जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट में 95.63 फीसदी 85 वर्ष से अधिक आयुवर्ग एवं 40 फीसदी से अधिक दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी नीलिमा तक्षक ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि होम वोटिंग के पांचवें दिन जयपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में समाहित मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में कुल 135 में से 129 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। 6 मतदाता अनुपस्थित होने के कारण मतदान नहीं कर पाए।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी नीलिमा तक्षक ने बताया कि जयपुर ग्रामीण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में पांचवें दिन होम वोटिंग के लिए पंजीकृत कुल 458 में से 438 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। दो मतदाता निधन होने के कारण एवं 18 मतदाता अनुपस्थित होने के कारण मतदान नहीं कर पाए।

PC: jagran
अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

इंटरनेट डेस्क। लोकसभा चुनाव के पहले चरण की तारीख नजदीक आते ही राजस्थान में नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। इसी बीच कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने भारतीय जनता पार्टी पर एक बड़ा आरोप लगाया है। राजस्थान कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सचिन पालयट ने दौसा में भाजपा सरकार पर धार्मिक राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि यह देश के लोकतंत्र के लिए अनुकूल नहीं है।

लोगों से लोकतंत्र बचाने के लिए कांग्रेस का समर्थन करने की अपील की
राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इस दौरान लोगों से लोकतंत्र बचाने के लिए कांग्रेस का समर्थन करने की अपील की। पूर्व केन्द्रय मंत्री सचिन पायलट ने पायलट ने दौसा में कांग्रेस प्रत्याशी मुरारीलाल मीणा और भरतपुर में कांग्रेस प्रत्याशी संजना जाटव के समर्थन में आयोजित जनसभाओं में हिस्सा लेेकर ये बड़ी बात कही है।

विकास के बारे में बात करने में विफल रहने पर धार्मिक मुद्दे उठाती है भाजपा
सचिन पायलट ने जनसभा में भारतीय जनता पार्टी के लिए यहां तक बोल दिया कि बीजेपी भाजपा जब विकास के बारे में बात करने में विफल रहती है तो वह धार्मिक मुद्दे उठाती है। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का भी जिक्र किया है। वहीं उन्होंने जनसभा में बोल दिया कि भारतीय जनता पार्टी ने संसद में जनता की आवाज दबाने के लिए विपक्ष के 147 सांसदों को निलंबित कर दिया। उन्होंने महंगाई को लेकर भी केन्द्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के राज में पेट्रोल की कीमत 100 रुपए के पार पहुंच गई है।

PC:twitter
अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

Following the battle in the Supreme Court to get the State Bank of India to reveal data about electoral bonds in a manner that allowed donors to be matched with the political parties that received them, it is clear that the elephant in the room is black money – or to put it unambiguously, cash.

Electoral bonds, which the Supreme Court struck down as unconstitutional on February 15, were paper instruments that anyone could buy from the State Bank of India and donate to a political party. It allowed donors to make ostensibly anonymous contributions to political parties. However, while parties knew the identity of their donors, the public did not. This, as the court noted, made the scheme vulnerable to quid pro quos.

Even though the government of the day claimed that the scheme would eliminate unaccounted funds from the political system, this did not happen. For instance, Subash Chandra Garg, a former secretary of economic affairs, estimated in a television discussion that electoral bonds did not fund more than more than 10% of the total election-related expenditure. “So, there is an enormous amount of black and other corrupted money which is into the system,” Garg said.

It is clear that India can try any convoluted or complicated scheme, be…

Read more

Maharashtra Navnirman Sena chief Raj Thackeray on Tuesday announced that his party will extend “unconditional support” to the state’s ruling Mahayuti alliance in the Lok Sabha elections.

The Mahayuti alliance comprises the Bharatiya Janata Party, the Chief Minister Eknath Shinde-led faction of the Shiv Sena and Deputy Chief Minister Ajit Pawar’s Nationalist Congress Party group.

“The country today needs strong leadership,” Thackeray said at a rally in Mumbai, The Indian Express reported.

He added that his support to the BJP-led alliance was “only to make Narendra Modi the prime minister for another term”. “India is a country of youngsters, who need opportunities,” Thackeray said. “I expect Narendra Modi to concentrate on youngsters. They [youth] are the future. This election will decide the future of this country.”

Thackeray, who broke away from the then undivided Shiv Sena in 2006 to create the Maharashtra Navnirman Sena that year, added that Shinde and Deputy Chief Minister Devendra Fadnavis had been asking him to “come together” for the past year and a half.

“I wanted to know what exactly they mean… that is why I called [Union Home Minister] Amit Shah and went to meet him,” Thackeray said, referring to his meeting with Shah in March.

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में लोकसभा चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान शुरू होने से पहले कांग्रेसी नेताओं का पार्टी छोडऩे का क्रम रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

महेंद्रजीत सिंह मालवीय, रिछपाल मिर्धा, खिलाड़ी लाल बैरवा सहित कई बड़े नामों के कांग्रेस छोडऩे के बाद अब इस लिस्ट में प्रदेश की राजनीति का एक और बड़ा नेता का नाम आज शामिल हो सकता है। प्रदेश की 12 सीटों पर पहले चरण में होने वाली वोटिंग से पहले पूर्व सीएम अशोक गहलोत के करीबी और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश कोषाध्यक्ष सीताराम अग्रवाल के पार्टी छोडऩे की खबरें आ रही है। वह आज भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम सकते हैं।

अग्रवाल समाज में होगी भाजपा की पकड़ और मजबूत
खबरों के अनुसार, कांग्रेस की ओर से विधानसभा चुनाव लड़ चुके सीताराम अग्रवाल आज कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामने थामेंगे। सीताराम अग्रवाल के इस कदम से भाजपा की अग्रवाल समाज में पकड़ और मजबूत हो जाएगी। पूर्व सीएम अशोक गहलोत के करीबी नेता सीताराम अग्रवाल को कांग्रेस ने पिछले साल संपन्न हुए राजस्थान विधानसभा चुनाव में विद्यानगर सीट से उम्मीदवार बनाया था। इस सीट से भारतीय जनता पार्टी की ओर से दीया कुमारी ने बड़ी जीत दर्ज की थी। इस जीत के बाद दीया कुमारी को प्रदेश का उप मुख्यमंत्री बनाया गया था।

दो विधानसभा चुनाव में मिल चुकी है हार
सीताराम अग्रवाल कांग्रेस के प्रदेश कोषाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। वह पार्टी की ओर से लगातार दो विधानसभा चुनाव लड़े थे, लेकिन दोनों ही बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। 2018 में उन्हें भाजपा के नरपत सिंह राजवी से और 2023 में दीया कुमारी से हार का सामना करना पड़ा है।

PC:business-standard,thestatesman, rajasthan.ndtv
अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

On April 1, the Supreme Court asked the Election Commission to respond to a petition calling for a complete count of the paper slips generated when votes are cast on electronic voting machines to allay “doubt among the general public as to whether there is a mismatch between the vote cast and the vote recorded”.

The news was buried in the inside pages of most metropolitan newspapers.

And yet by April 4, word had travelled to Suar, a speck of a town of about 30,000 people in Rampur district in western Uttar Pradesh, where Muslim voters told me they saw the court order as validation of their concerns that elections are being rigged in favour of the ruling Bharatiya Janata Party.

“Now even the Supreme Court is saying this,” said Nasir Ali, who sells fruit from a handcart. “Earlier the media was speaking about this in hushed tones. Now, it is speaking openly.”

The next hearing in the matter is scheduled for the third week of April – the same week in which the first day of polling takes place in India’s seven-phase parliamentary elections.

Among the areas voting on April 19 are eight constituencies of western Uttar Pradesh. In six of them, Muslims constitute more than one-third of the…

Read more

The Congress on Tuesday criticised the Narendra Modi-led Union government for rising debt, inflation and unemployment, saying that “alarm bells” are ringing in the Indian economy. The Election Commission, meanwhile, directed the Central Board of Direct Taxes to verify any potential mismatch between the actual and declared income of Bharatiya Janata Party’s Thiruvananthapuram candidate Rajeev Chandrasekhar. Chief Election Commissioner Rajiv Kumar was provided with a Z-category security detail.

Here’s a look at today’s top developments:

  • Congress leader Jairam Ramesh asserted on Tuesday that under the leadership of the prime minister, “India has witnessed record levels of unemployment, high inflation, declining real wages, widespread rural distress and dramatic increases in inequality”. Ramesh referenced a report by financial services firm Motilal Oswal, which said India’s household debt levels are reported to have touched an all-time high of 40% of Gross Domestic Product. Ramesh said that this showed the “devastating impact that Mr Modi’s policies have had on Indian households”.

  • Birender Singh, a former Union minister in the Bharatiya Janata…

    Read more

Union minister Rajeev Chandrasekhar on Saturday said that he will take legal action against Congress MP Shashi Tharoor after the latter accused him of bribing voters with cash.

Chandrasekhar and Tharoor are contesting the Lok Sabha elections from Kerala’s Thiruvananthapuram constituency.

On Saturday, Tharoor claimed in an interview that he had received information from various sources, including “certain important community leaders and parish priests” suggesting that the Bharatiya Janata Party was trying to influence voters with cash, The Hindu reported.

However, the Congress MP expressed doubts whether those who have allegedly received the money will be willing to come forward with evidence. Tharoor also alleged that the BJP could have spent “20, 30 or even 100 times” the amount that the other candidates have spent on campaigning.

Soon after this, Chandrasekhar challenged Tharoor to disclose to whom he gave the money.

“With his baseless allegation, he has also damaged the reputation of religious and community organisations in the [state] capital,” the BJP leader said in a social media post. “Rest assured, I will ensure that this slander is countered using all legal means. It’s disgraceful to see a three-time MP stooping to third-rate politics in his desperation.”

West Bengal Governor CV Ananda Bose on Tuesday directed the state government to remove Minister of Education Bratya Basu from the Cabinet for an alleged violation of the Model Code of Conduct ahead of the approaching Lok Sabha polls, reported The Hindu.

The Model Code of Conduct is a set of guidelines issued by the Election Commission that political parties and governments are mandated to follow while campaigning.

Basu is alleged to have violated poll conduct rules by presiding over a “political meeting” at Gour Banga University on March 30. Bose is the chancellor of the university.

“In the light of the political meeting held in Gour Banga University under the leadership and presence of Shri Bratya Basu (Minister of Education) with other Ministers, MPs, MLAs and political leaders on 30th March, 2024, the Chancellor and Governor has directed the State government to take action against the erring Minister who has deliberately violated the election code of conduct,” said a statement issued by Raj Bhavan, the governor’s official residence.

It also said: “Be you ever so high, the law is above you.”

Basu responded to the direction for his removal by accusing the governor of overreaching his powers. “The Indian Constitution clearly states that the recommendation of appointment or removal of any Minister…

Read more

The Election Commission on Friday sent a notice to Delhi minister Atishi over an alleged violation of the model code of conduct, days after she claimed that the Bharatiya Janata party had attempted to coerce her into defecting to it.

The poll panel said that being a minister, the voters tend to believe what she says in public, and she should be able to support her claim on a factual basis.

The Aam Aadmi Party leader has been asked to file her response by 12 pm on Monday.

The model code of code is a set of guidelines issued by the poll panel that political parties have to follow while campaigning during elections.

The notice to Atishi was sent on the basis of a complaint filed by the BJP.

On Tuesday, Atishi alleged that she had been approached through a “close aide” to join the BJP or face arrest by the Enforcement Directorate. She claims came after the arrest of Kejriwal by the central law enforcement agency in connection with the Delhi liquor excise policy case.

She had alleged that Prime Minister Narendra Modi has decided to crush the Aam Aadmi Party and arrest all its leaders.

“First they arrested all the senior leaders of the party,” Atishi said. “First Satyendar Jain was arrested, then Manish Sisodia and Sanjay Singh were taken into custody and now…

Read more

Congress leader Gourav Vallabh on Thursday resigned from the party ahead of the Lok Sabha elections, citing his discomfort with the “directionless way” with which it was moving forward.

Vallabh, who was a party spokesperson, shared his resignation letter on social media and said that he could neither shout “anti-Sanatan slogans” nor “abuse the wealth creators of the country”.

Sanatan or Sanatana Dharma is a term some people use as a synonym for Hinduism.

Vallabh, in his resignation letter addressed to Congress President Mallikarjun Kharge, said that on one hand, the Congress was demanding a caste census and on the other hand, it “seems to oppose the entire Hindu society”.

“This style of working gives a misleading message to the public that the party is a supporter of a particular religion only,” he said in the letter. “This is against the basic principles of Congress.”

Last year, the Congress had fielded…

Read more

Ten Bharatiya Janata Party candidates including Chief Minister Pema Khandu were elected unopposed to the Arunachal Pradesh Assembly on Saturday ahead of the state elections.

In five of these constituencies, Opposition parties did not field their candidates. In the other five constituencies, candidates of Opposition parties withdrew their nominations by Saturday, which was the last day of withdrawal of candidature.

The elections for the remaining constituencies in the 60-member Assembly and two Lok Sabha seats in the state will be held on April 19. Counting of votes for the state polls will take place on June 2 and for the general election on June 4.

Khandu was elected unopposed from Mukto and his deputy Chowna Mein from Chowkham.

The eight other BJP candidates who were elected are: Ratu Techi from Sagalee, Jikke Tako from Tali, Nyato Dukam from Taliha, Mutchu Mithi from Roing, Hage Appa from Ziro-Hapoli, Techi Kaso from Itanagar, Dongru Siongju from Bomdila and Dasanglu Pul from Hayuliang.

On Saturday, Khandu congratulated the candidates for “scripting a great chapter in the state’s electoral history”.

“With great humility, we acknowledge this, which fills us with a deep sense of responsibility and commitment towards serving you with utmost dedication and sincerity,” he said in a social media post.

A party needs a total 31 seats to secure a…

Read more

The Communist Party of India has been served a notice by the Income Tax Department for procedural violations after two of its state units were found to be using old Permanent Account Number, or PAN, cards to file their income tax returns, ANI reported on Saturday citing the party’s general secretary D Raja.

Raja did not, however, specify the dates on which the notices were received by his party.

On being asked if the party has received any notices regarding a tax demand, Raja said that they had not received such a notice from the Income Tax Department.

Media reports on Friday suggested that the Communist Party of India had been asked to pay dues worth Rs 11 crore for the PAN card violation.

Raja’s confirmation of the notice to the Communist Party of India comes a day after the Income Tax Department served a fresh notice of Rs 1,823 crore to the Congress a day after the Delhi High Court rejected the party’s petitions challenging the tax reassessment proceedings for the financial years 2017-’18 to 2020-’21.

On Saturday, Congress leader Jairam Ramesh claimed that the party received two more notices on Friday night, reported The Times of India, though their contents were not specified.

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में इस बार दो चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे। प्रदेश में पहले चरण का मतदान 19 अप्रैल होगा। वहीं दूसरे चरण के लिए 26 अप्रेल को वोटिंग की जाएगी। मतदान को लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।

आयोग ने राजस्थान में 19 अप्रैल से एक जून तक एग्जिट पोल पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस बात की जानकारी आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी की ओर से दी गई है। उन्होंने बताया कि ने भारत निर्वाचन आयोग की ओर से 19 अप्रैल को सुबह 7 बजे से लेकर 1 जून की शाम 6.30 बजे तक के लिए एक्जिट पोल पर रोक लगा दी गई है। इस अवधि के दौरान एक्जिट पोल के नतीजों का प्रकाशन और प्रसारण प्रतिबंधित रहेगा।

गौरलब है कि राजस्थान में पहले चरण में के तहत 19 अप्रैल को गंगानगर, बीकानेर, चूरू, झुंझुनू, सीकर, जयपुर ग्रामीण, जयपुर, अलवर, भरतपुर, करौली-धौलपुर, दौसा और नागौर लोकसभा सीट पर मतदान होगा।

वहीं बची हुई 13 सीटों पर 26 अप्रैल को मतदान होगा। इसमें टोंक-सवाई माधोपुर, अजमेर, पाली, जोधपुर, बाड़मेर, जालौर, उदयपुर, बांसवाड़ा, चित्तौडग़ढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, कोटा और झालावाड़-बारां शामिल है।

PC:outlookindia
अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

इंटरनेट डेस्क। लोकसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चुका हैं और कांग्रेेस उम्मीदवारों के नामों का ऐलान करने में लगी है। बता दें की पार्टी ने उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में कांग्रेस ने 57 उम्मीदवारों का ऐलान किया है। मीडिया रिपोटर्स की माने तो इन उम्मीदवारों में अरुणाचल प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी की सीटे शामिल है।

कांग्रेस ने इस लिस्ट में राजस्थान की पांच सीटों पर नामांे की घोषणा की हैं और एक सीट को गठबंधन के लिए छोड़ दिया है। ऐसे में कांग्रेस की दूसरी लिस्ट में 6 नाम आ चुके हैं और अब 9 नामों की घोषणा होनी बाकी है। मीडिया रिपोटर्स की माने तो राजस्थान में लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने जिन छह सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की हैं इसमें जयपुर से लेकर गंगानगर तक की सीट का नाम है।

गंगानगर सुरक्षित लोकसभा सीट से कुलदीप इंदौरा को कांग्रेस ने प्रत्याशी बनाया है। सीकर सीट सीपीआईएम के लिए छोड़ी है। जयपुर से सुनील शर्मा, पाली से संगीता बेनीवाल, बाड़मेर से उम्मेदाराम, झालावाड़-बारां से उर्मिला जैन भाया को पार्टी ने टिकट दिया है।

pc-business-standard.com

अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

इंटरनेट डेस्क। लोकसभा चुनावों के पहले भाजपा नेताओं के लिए कई दूसरी पार्टियाें के नेता तो कुछ निर्दलीय परेशानी का कारण बनते जा रहे हैं। ऐसे में इन सबको सेट करने का काम किया हैं प्रदेश के सीएम भजनलाल ने। इतना ही नहीं भजनलाल ने कई बड़े नेताओं को कांग्रेस से निकालकर भाजपा में शामिल करने काम भी किया है।

वहीं अपनी ही पार्टी में फूट की खबरों को भी उन्होंने सामने नहीं आने दिया है। सबसे पहले भजनलाल शर्मा ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और जोधपुर के शेरगढ़ से बीजेपी विधायक बाबू सिंह राठौड़ में समझौता करा कर वहां शेखावत की राह आसान कर दी है। इसी कड़ी में पार्टी ने चित्तौड़गढ़ से सीपी जोशी को भी एक बड़े संकट से राहत दिलाई है। उन्होंने जोशी और उनके धुर विरोधी एवं चितौड़गढ से निर्दलीय विधायक चंद्रभान सिंह आक्या में सुलह करा दी है।

इसके बाद आगे कड़ी हैं बाढ़मेर के शिव से निर्दलीय विधायक रवींद्र सिंह भाटी की। जो सांसद और केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के सामने परेशानी बन रहे हैं। ऐसे में मंगलवार को सीएम उनके साथ भी एक बड़ी बैठक की है और माना जा रहा हैं की भाटी भी अब भाजपा में जा सकते हैं और कैलाश चौधरी को समर्थन दे सकते है।

pc- news18

अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

इंटरनेट डेस्क। लोकसभा चुनावों के लिए भाजपा और कांग्रेस ने अपने अपने स्तर पर तैयारी कर रखी हैं और इसके साथ ही लगातार पार्टियां उम्मीदवारों के नामों की घोषणा भी कर रही है। इसी कड़ी में कांग्रेस अब तीसरी सूची की तैयारी में हैं जो आज देर रात या फिर कल तक सामने आ सकती है। बता दें की कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की आज एक बार फिर बैठक होने जा रही है।

इस बैठक में मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात की 45 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम पर मंथन होगा। इससे पहले पार्टी मंगलवार को 11 राज्यों की करीब 85 लोकसभा सीटों पर बात कर चुकी हैं और नाम भी तय कर चुकी है। यह कांग्रेस उम्मीदवारों की तीसरी सूची होगी जो अब सामने आएगी।

अब तक कांग्रेस पार्टी दो चरणों में 82 सीटों पर उम्मीदवारों के नामों का एलान कर चुकी है। पहली सूची में पार्टी ने 39 और दूसरी सूची में 43 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की है। वहीं राजस्थान की 10 सीटों पर उम्मीदवारों को उतार चुकी है। ऐसे में अब बाकी बची 15 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान हो सकता है।

pc-tribuneindia.com

अपडेट खबरों के लिए हमारावॉट्सएप चैनलफोलो करें

The counting of votes in the Assembly elections in Arunachal Pradesh and Sikkim will happen on June 2 instead of June 4, the Election Commission announced on Sunday.

The date of polling in the two states, April 19, will remain unchanged.

The poll panel said on Sunday that the date of counting of votes in Arunachal Pradesh and Sikkim needed to be done earlier because the term of their legislative Assemblies will expire on June 2. The election process needs to be completed before the term of the Assembly expires.

However, there will be no change in the date of counting of votes for the Lok Sabha polls in the two states.

On Saturday, the Election Commission announced that the 2024 Lok Sabha elections will be held in seven phases from April 19 to June 1. The results will be announced on June 4.

Besides Arunachal Pradesh and Sikkim, Assembly polls in Andhra Pradesh and Odisha will be held simultaneously with the Lok Sabha elections. While voting for Assembly seats in Andhra Pradesh will take place on May 13, the election in Odisha will be held in two phases on May 13 and May 20.

The results of the Assembly polls in Andhra Pradesh and Odisha will also be announced on June 4 along with…

Read more

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के परिणाम आ चुके है और भाजपा ने यहां बहुमत हासिल कर लिया है। पार्टी को 115 सीटों पर जीत मिली है तो कांग्रेस 69 सीटों पर ही अटक गई है। इसके साथ ही रविवार को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बीजेपी को बहुमत का जनादेश मिलने के साथ ही गहलोत राज्यपाल कलराज मिश्र के आवास पर पहुंचे और उनको अपना इस्तीफा दे दिया।

बता दें की राजस्थान में 200 सीटों में से 199 पर चुनाव हुए हैं। यहां राज्य की रिवायत के मुताबिक सत्ता परिवर्तन तय हो चुका है। इससे पहले राजस्थान विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जीत तय होती दिखने के बाद अशोक गहलोत ने चुनाव परिणामों को अप्रत्याशित बताते हुए कहा था कि वह इसे विनम्रतापूर्वक स्वीकार करते हैं।

कांग्रेस नेता ने एक्स पर लिखा, राजस्थान की जनता द्वारा दिए गए जनादेश को हम विनम्रतापूर्वक स्वीकार करते हैं। यह सभी के लिए एक अप्रत्याशित परिणाम है। उन्होंने कहा, यह हार दिखाती है कि हम अपनी योजनाओं, कानूनों और नवाचारों को जनता तक पहुंचाने में पूरी तरह कामयाब नहीं रहे।

pc-mpbreakingnews.in

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा और कांग्रेस ने कमर कस ली है और दोनों पार्टियों के नेता चुनाव प्रचार में उतर चुके है। पीएम मोदी प्रदेश का दौरा कर कांग्रेस पर कई तरह के आरोप लगा रहे है। ऐसे में सीएम अशोक गलोत भी जवाब देने में पीछे नहीं है और लगातार वो भी पीएम और भाजपा को निशाने पर ले रहे है।

इधर सीएम अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं भारतीय जनता पार्टी पर चुनाव में लोगों को जाति एवं धर्म के नाम पर भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा है कि ये लोग चुनाव में मुद्दे की बात नहीं कर केवल लोगों को भड़काने एवं ध्यान भटकाने की बात करते हैं।

बता दें की गहलोत मंगलवार को कांग्रेस की गारंटी यात्रा के अगले चरण की शुरुआत के मौके पर हाड़ोती की यात्रा पर है। यहां मीडिया से बातचीत में उन्होंने यह बात कही। उन्होंने कहा कि वह मुद्दे पर बात नहीं करते और लोगों को भड़काने वाली बात करते हैं जबकि कांग्रेस राज्य में विकास और सुशासन को लेकर चुनाव लड़ रही है।

pc- hindustan

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए मतदान 25 नवंबर को होगा। ऐसे में सभी पार्टियों के बड़े नेता राजस्थान का दौरा कर रहे है। लेकिन राहुल गांधी के नहीं आने पर चर्चा चल पड़ी है की कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने हार मानली है और इसी कारण बड़े नेता प्रचार नहीं कर रहे है। ऐसे में पार्टी के महासचिव केसी वेणुगोपाल को कहना पड़ा है की भाजपा द्वारा प्रायोजित एक प्रचार तंत्र राजस्थान में कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को लेकर अफवाहें फैला रहा है।

उन्होंने कहा की कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी राजस्थान में पहुंच रहे हैं। राजस्थान के 8 करोड़ लोगों के साथ कांग्रेस पार्टी का एक अटूट रिश्ता है। केसी वेणुगोपाल ने एक पोस्ट में लिखा, 16 नवंबर से कांग्रेस के शीर्ष नेता राजस्थान के चुनाव में जोरदार प्रचार करेंगे।

पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे 16 नवंबर से तीन दिन के लिए राजस्थान में रहेंगे, इसके बाद राहुल गांधी, चार दिन के लिए वहां रहेंगे। इतना ही नहीं, प्रियंका गांधी तीन दिन के लिए राजस्थान में चुनाव प्रचार करेंगी।

pc- ndtv

इंटरनेेट डेस्क। राजस्थान में चुनावी मौसम है और ऐसे में यहा ओरोप प्रत्यारोप का दौर अभी लगातार चल रहा है। ऐसे में संवैधानिक पदों के राजस्थान में बढ़ रहे हस्तक्षेप को लेकर भी सियासत चल रही है। जहां पहले उपराष्ट्रपति के बार बार राजस्थान दौरे को लेकर गहलोत ने सवाल उठाए थे, वैसे ही अब उदयपुर में असम के राज्यपाल गुलाबचंद कटारिया के आने को लेकर कांग्रेस हमलावर हो गई हैं।

मीडिया रिपोटर्स की माने तो कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और उदयपुर के प्रत्याशी गौरव वल्लभ ने राज्यपाल कटारिया के उदयपुर आने पर एतराज जताया है। इसको लेकर उन्होंने चुनाव आयोग को शिकायत भी की है। जिसमें उन्होंने इसे आचार संहिता का सीधा उल्लंघन बताया है।

चुनाव आयोग को की गई शिकायत में बल्लभ ने बताया कि असम के राज्यपाल संवैधानिक पद पर है। गौरव वल्लभ ने कहा कि राज्यपाल कटारिया उदयपुर के भाजपा प्रत्याशी ताराचंद जैन के समर्थन में मीटिंग के लिए उदयपुर आ रहे हैं। जो आदर्श आचार संहिता का सीधा उल्लंघन है।

pc- news24hindi

Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot on Sunday alleged that the men who killed a tailor in Udaipur last year were linked to the Bharatiya Janata Party, ANI reported.

The tailor, Kanhaiya Lal, was killed on June 28 last year for purportedly sharing a social media post in support of suspended BJP spokesperson Nupur Sharma. She had made disparaging remarks about Prophet Muhammad during a television debate a month before.

The chief minister said that if the state police’s Special Operations Group had handled the case instead of the National Investigation Agency, the matter would have reached a logical conclusion. His statement came days ahead of Assembly elections in Rajasthan, which are slated to be held on November 25.

“No one knows what action the NIA has taken,” Gehlot told reporters in Jodhpur on Sunday. “If our SOG had pursued the case, the culprits would have been brought to justice by now.”

The chief minister said that as soon as he heard about the killing, he had cancelled all his scheduled events and left for Udaipur. “However, several top leaders of the BJP chose to attend an event in Hyderabad even after learning of the Udaipur incident,” he said.

Last month, Prime Minister Narendra Modi had referred to the killing, and alleged that the…

Read more