April 23, 2024

Election

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा और कांग्रेस ने कमर कस ली है और दोनों पार्टियों के नेता चुनाव प्रचार में उतर चुके है। पीएम मोदी प्रदेश का दौरा कर कांग्रेस पर कई तरह के आरोप लगा रहे है। ऐसे में सीएम अशोक गलोत भी जवाब देने में पीछे नहीं है और लगातार वो भी पीएम और भाजपा को निशाने पर ले रहे है।

इधर सीएम अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं भारतीय जनता पार्टी पर चुनाव में लोगों को जाति एवं धर्म के नाम पर भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा है कि ये लोग चुनाव में मुद्दे की बात नहीं कर केवल लोगों को भड़काने एवं ध्यान भटकाने की बात करते हैं।

बता दें की गहलोत मंगलवार को कांग्रेस की गारंटी यात्रा के अगले चरण की शुरुआत के मौके पर हाड़ोती की यात्रा पर है। यहां मीडिया से बातचीत में उन्होंने यह बात कही। उन्होंने कहा कि वह मुद्दे पर बात नहीं करते और लोगों को भड़काने वाली बात करते हैं जबकि कांग्रेस राज्य में विकास और सुशासन को लेकर चुनाव लड़ रही है।

pc- hindustan

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए मतदान 25 नवंबर को होगा। ऐसे में सभी पार्टियों के बड़े नेता राजस्थान का दौरा कर रहे है। लेकिन राहुल गांधी के नहीं आने पर चर्चा चल पड़ी है की कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने हार मानली है और इसी कारण बड़े नेता प्रचार नहीं कर रहे है। ऐसे में पार्टी के महासचिव केसी वेणुगोपाल को कहना पड़ा है की भाजपा द्वारा प्रायोजित एक प्रचार तंत्र राजस्थान में कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को लेकर अफवाहें फैला रहा है।

उन्होंने कहा की कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी राजस्थान में पहुंच रहे हैं। राजस्थान के 8 करोड़ लोगों के साथ कांग्रेस पार्टी का एक अटूट रिश्ता है। केसी वेणुगोपाल ने एक पोस्ट में लिखा, 16 नवंबर से कांग्रेस के शीर्ष नेता राजस्थान के चुनाव में जोरदार प्रचार करेंगे।

पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे 16 नवंबर से तीन दिन के लिए राजस्थान में रहेंगे, इसके बाद राहुल गांधी, चार दिन के लिए वहां रहेंगे। इतना ही नहीं, प्रियंका गांधी तीन दिन के लिए राजस्थान में चुनाव प्रचार करेंगी।

pc- ndtv

इंटरनेेट डेस्क। राजस्थान में चुनावी मौसम है और ऐसे में यहा ओरोप प्रत्यारोप का दौर अभी लगातार चल रहा है। ऐसे में संवैधानिक पदों के राजस्थान में बढ़ रहे हस्तक्षेप को लेकर भी सियासत चल रही है। जहां पहले उपराष्ट्रपति के बार बार राजस्थान दौरे को लेकर गहलोत ने सवाल उठाए थे, वैसे ही अब उदयपुर में असम के राज्यपाल गुलाबचंद कटारिया के आने को लेकर कांग्रेस हमलावर हो गई हैं।

मीडिया रिपोटर्स की माने तो कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और उदयपुर के प्रत्याशी गौरव वल्लभ ने राज्यपाल कटारिया के उदयपुर आने पर एतराज जताया है। इसको लेकर उन्होंने चुनाव आयोग को शिकायत भी की है। जिसमें उन्होंने इसे आचार संहिता का सीधा उल्लंघन बताया है।

चुनाव आयोग को की गई शिकायत में बल्लभ ने बताया कि असम के राज्यपाल संवैधानिक पद पर है। गौरव वल्लभ ने कहा कि राज्यपाल कटारिया उदयपुर के भाजपा प्रत्याशी ताराचंद जैन के समर्थन में मीटिंग के लिए उदयपुर आ रहे हैं। जो आदर्श आचार संहिता का सीधा उल्लंघन है।

pc- news24hindi

Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot on Sunday alleged that the men who killed a tailor in Udaipur last year were linked to the Bharatiya Janata Party, ANI reported.

The tailor, Kanhaiya Lal, was killed on June 28 last year for purportedly sharing a social media post in support of suspended BJP spokesperson Nupur Sharma. She had made disparaging remarks about Prophet Muhammad during a television debate a month before.

The chief minister said that if the state police’s Special Operations Group had handled the case instead of the National Investigation Agency, the matter would have reached a logical conclusion. His statement came days ahead of Assembly elections in Rajasthan, which are slated to be held on November 25.

“No one knows what action the NIA has taken,” Gehlot told reporters in Jodhpur on Sunday. “If our SOG had pursued the case, the culprits would have been brought to justice by now.”

The chief minister said that as soon as he heard about the killing, he had cancelled all his scheduled events and left for Udaipur. “However, several top leaders of the BJP chose to attend an event in Hyderabad even after learning of the Udaipur incident,” he said.

Last month, Prime Minister Narendra Modi had referred to the killing, and alleged that the…

Read more

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ही प्रदेश की सबसे ज्यादा हॉट सीट चित्तौडग़ढ़ से कांग्रेस प्रत्याशी एवं वरिष्ठ नेता सुरेंद्रसिंह जाड़ावत ने बड़ा ऐलान कर दिया है।

राजस्थान विधानसभा के चुनावी रण के मैदान में उतर चुके सुरेंद्रसिंह जाड़ावत ने बुधवार को ऐलान दिया के ये उनका अन्तिम चुनाव होगा। खबरों के अनुसार, उन्होंने कहा कि यह मेरा अंतिम चुनाव होगा और मैं काम के आधार पर जनमत मांगूंगा।

कांग्रेस नेता ने बुधवार को संवाददाओं से कहा कि इस बार मेरा टिकट नहीं होना था, लेकिन कार्यकर्ताओं के गुस्से को देखते हुए नेतृत्व को अंतिम समय में विचार कर दो बार लगातार हारने के बावजूद मुझे टिकट दिया है।

चित्तौडग़ढ़ से कांग्रेस उम्मीदवार सुरेंद्रसिंह जाड़ावत ने इस दौरान पत्रकारों से कहा कि यह मेरा अंतिम चुनाव होगा, इसके बाद मैं अगले पांच वर्षों में चुनाव के लिए नई पीढ़ी तैयार करूंगा।

PC:newsclick

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में चुनावी माहौल इस समय गरमाया हुआ है, नेता लगातार चुनाव प्रचार करने में जुटे है और अपनी अपनी जीत के दावे कर रहे है। ऐसे में कांग्रेस नेता सचिन पायलट भी कहा पीछे रहने वाले है। बुधवार को उन्होंने भी विश्वास जताया कि उनकी पार्टी राजस्थान में हर पांच साल में मौजूदा सरकार को सत्ता से बाहर करने के चलन को तोड़ देगी।

उन्होंने कहा की 25 नवंबर के विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी यहां दोबारा से सरकार बनाएगी। इसके साथ ही सचिन पायलट ने आरोप लगाया कि विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी विकास के मुद्दे से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है और चुनाव के दौरान धर्म पर बात कर रही है।

बता दें की सचिन पायलट इस समय अपने चुनावी क्षेत्र टोंक में चुनाव प्रचार करने में जुटे है। अपने निर्वाचन क्षेत्र टोंक में उन्होंने कहा कि राजस्थान में 30 साल की परंपरा, बीजेपी के पांच साल, कांग्रेस के पांच साल… वह परंपरा टूटने वाली है।

pc- abp news

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए नामांकन प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है और मतदान 25 नवंबर को होना है। लेकिन अब राजनीतिक पार्टियां पूरे तरह से चुनाव प्रचार में जुटने वाली है। इसी कड़ी में प्रचार के लिए अब एक बार फिर से पीएम मोदी राजस्थान का रूख करने जा रहे है। बता दें की भाजपा ने 40 स्टा प्रचारकों की सूची जारी की है जिसमें पीएम पहले नंबर पर है।

बता दें की पीएम मोदी विधानसभा चुनाव से पहले कल यानी के 9 नवंबर को राजस्थान के दौरे पर आ रहे हैं। इस दिन मोदी उदयपुर में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी की सभा की तैयारी जोरो शोरो सेे चल रही है।

बता दें की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को शाम 4 बजे उदयपुर में जनसभा को संबोधित करेंगे। राजस्थान में आचार संहिता लगने के बाद प्रधानमंत्री मोदी का यह पहला दौरा होगा।
pc- abp news

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए 25 नवंबर को वोटिंग होगी, लेकिन उसके पहले चुनावी माहौल बन चुका है। राजनीतिक पार्टियों की तरफ से प्रचार प्रसार के साथ ही लगातार बयानबाजी का दौर भी जारी है। इस बीच सीएम अशोक गहलोत ने भी भाजपा पर निशाना साधा और बड़ा बयान भी दिया।

मीडिया रिपोटर्स की माने तो सीएम गहलोत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने जो सात गारंटी दी हैं, उसपर पार्टी को जीत मिलेगी। बीजेपी द्वारा उनके बेटे पर लगाए जा रहे आरोपों पर गहलोत ने कहा कि आरोप लगाना एक बात है, लेकिन भ्रष्टाचार से जुड़ी एक चीज साबित करके दिखाएं।

उन्होंने कहा की राजस्थान में बीजेपी चुनाव पीएम मोदी के चेहरे को आगे लेकर लड़ रही है। ये प्रदेश के साथ मजाक हो रहा है। उन्होंने कहा काम तो यहां स्टेट लीडरशिप को करना है। लेकिन बीजेपी प्रधानमंत्री का चेहरा बताकर जनता को भ्रमित कर रही है।

pc-tv9hindi.com

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान विधानसभा चुनावों की तारीख जैसे जैसे नजदीक आती जा रही है वैसे वैसे ही राजनीतिक महौल गर्माता जा रहा है। इस बीच में सीएम अशोक गहलोत ने पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को बहस की चुनौती दे डाली है। सीएम ने कांग्रेस की सात गारंटियों को लेकर वसुंधरा राजे को चुनौती दी है।

मीडिया रिपोटर्स की माने तो अशोक गहलोेत ने कहा की मैं विपक्षी दल की नेता वसुंधरा राजे को चुनौती देता हूं। दरअसल, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने गुरुवार को कांग्रेस पर निशाना साधा था। कांग्रेस की 7 गारंटियों की आलोचना की थी। इसके जवाब में सीएम गहलोत ने वसुंधरा राजे को बहस के लिए चुनौती दी है।

बता दें की वसुंधरा राजे ने ट्वीट किया था और लिखा था, आश्चर्य होता है जिसकी खुद की वारंटी नहीं, वह कांग्रेस अब लोगों को गारंटी देने लगी है! जनता मूर्ख नहीं है, जो कांग्रेस की झूठी गारंटी में आ जाए। गहलोत जी जाते-जाते राहत का ऐसा जादुई पिटारा खोल रहे हैं, जिसमें दिखावे के अलावा कुछ नहीं है। इसी के जवाब में गहलोत ने वसुंधरा राजे को बहस की चुनौती दी है।

pc- ndtv

जयपुर। राजस्थान निर्वाचन विभाग मतदान प्रतिपक्ष बढ़ाने के लिए अपनी ओर से हर संभव प्रयास कर रहा है। इसी के तहत 80 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों एवं 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांग श्रेणी के विशेष योग्यजन मतदाताओं के लिए प्रदेश में पहली बार राजस्थान विधानसभा चुनावों में होम वोटिंग की सुविधा दी जा रही है।

प्रदेश में विधानसभा आम चुनाव में पहली बार दी जा रही इस सुविधा के लिए लोगों के पास आवेदन करने की आज आखिरी तारीख है। इन चुनावों में पात्र 56102 मतदाता विकल्प के तौर पर अब तक इस सुविधा के लिए आवेदन कर चुके है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि यह सुविधा विकल्प के रूप में है। योग्य मतदाता को इस सुविधा का चयन करने के लिए बीएलओ द्वारा दिए गए 12-डी फॉर्म को भरकर बीएलओ को देना होगा। होम वोटिंग का विकल्प चयन करने वाले इन मतदाताओं की सूची निर्वाचक अधिकारी द्वारा सभी मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों को उपलब्ध कराई गई है तथा गठित मतदान दल इन मतदाताओं को पोस्टल बैलेट के जरिए मतदान करवाएगा।

PC:jagran

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान विधानसभा चुनावों के लिए नामांकन दाखिल करने का दौर जारी है। इसी कड़ी में शुक्रवार को राजसमंद में भाजपा प्रत्याशी दीप्ती माहेश्वरी ने भी नामांकन दाखिल किया। इस दौरान भाजपा के स्टार प्रचारक और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे। उन्होंने राजसमंद में भाजपा प्रत्याशी दीप्ती माहेश्वरी की नामांकन सभा को भी संबोधित किया।

इस दौरान उन्होंने प्रदेश की गहलोत सरकार और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। राजनाथ ने कहा जनता का नेताओं पर भरोसा खत्म हो रहा है। ऐसा इसलिए हुआ क्यों नेताओं की कथनी और करनी में अंतर है। विश्वास पर आए इस संकट को कांग्रेस ने और गहरा किया है।

बता दें की राजनाथ सिंह यहीं नहीं रूके, उन्होंने, महिला सुरक्षा, भ्रष्टाचार समेत अन्य मुद्दों पर कांग्रेस को घेरा। राजनाथ सिंह ने कहा- राजस्थान में सांप्रदायिक तत्व तांडव मचा रहे हैं, और आप सो रहे हैं।

pc- india news

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए 25 नवंबर को वोटिंग होगी और इसके पहले उम्मीदवारों के नामों की घोषणा लगातार हो रही है। ऐसे में सवाई माधोपुर सीट से भाजपा ने पहली ही सूची में राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा को उम्मीदवार बनाया है। लेकिन बीच में खबरें ये भी है की किरोड़ी लाल मीणा और भी टिकट चाहते थे लेकिन उनकी पसंद को पार्टी ने नदारद कर दिया।

बीजेपी ने अपनी पांच सूचियों में किरोड़ी लाल मीणा को पूरी तरह दरकिनार किया है। इसको लेकर सियासी गलियारों में जमकर चर्चा हो रही है। बताया जा रहा है की किरोड़ी लाल अपने समर्थक नेताओं को टिकट दिलवाना चाहते थे लेकिन वो पूरी तरह विफल रहे हैं। यहां तक की किरोड़ी लाल अपनी पत्नी गोलमा देवी को भी टिकट नहीं दिला सके।

राजस्थान में राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने किरोड़ी लाल मीणा को दरकिनार किया है। इतना ही नहीं उम्मीदवारों की सूची में वसुंधरा राजे के भी कई समर्थक नेताओं के टिकट काटे गए हैं। ठीक ऐसे ही, किरोड़ी लाल मीणा के केवल एक समर्थक नेता राजेंद्र मीणा को टिकट दिया गया है जो उनके भतीजे हैं।

pc- abp news

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान विधानसभा चुनावों के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती कुछ खास प्लॉन के साथ में काम कर रही है ताकी पार्टी को इन चुनावों में फायदा मिल सके। ऐसे में मायावती ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है और अब बाकी बचे दिनों में मायावती चुनाव प्रचार में जुटने वाली है।

बता दें की बसपा सुप्रीमो मायावती ने राजस्थान ही नहीं मध्य प्रदेश में भी अपने प्रत्याशी उतारे हैं। ऐसे में अब मायावती दोनों ही प्रदेशा में चुनावी सभाओं को संबोधित भी करेगी। मीडिया रिपोटर्स की माने तो मायावती 9 जनसभाएं करेंगी।

इन रैलियों के जरिए बसपा की कोशिश होगी कि वह एमपी और राजस्थान में साल 2018 के मुकाबले इस बार ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करे। बता दें की मायावती एमपी के साथ साथ राजस्थान में भी चुनाव प्रचार के लिए रैलिया करेगी।

pc- jagran

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान की राजधानी जयपुर की मालवीय नगर विधानसभा सीट से एक बार फिर से कांग्रेस ने अर्चना शर्मा को अपना प्रत्याशी बनाया है। अर्चना शर्मा ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है।

इस दौरान शपथ पत्र पेश कर उन्होंने अपनी संपत्ति की जानकारी दी है। उन्होंने अपने शपथ पत्र में बताया कि पिछले 5 साल में उनकी संपत्ति में 47.76 लाख रुपए का इजाफा हुआ है। इसके बावजूद वे करोड़पति राजनेताओं की श्रेणी में नहीं आ पाई हैं। इस कांग्रेस उम्मीदवार के पास वर्तमान में चल और अचल संपत्ति कुल 88.76 लाख रुपए है।

उनके नाम एक फ्लैट, एक इंडिका कार, बैंक में नकदी और कुछ ज्वैलरी है। वहीं उनके पति सोमेन्द्र शर्मा की संपत्ति में पांच वर्षों में करीब 20 लाख रुपए की कमी हुई है। सोमेन्द्र की संपत्ति साल 2018 में कुल संपत्ति 86.16 लाख रुपए थी, जो अब घटकर 66 लाख रुपए ही रह गई है।

PC:ndtv

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। भाजपा विधायक पूनिया ने इस दौरान शपथ पत्र पेश कर खुद से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां दी हैं।

इसमें उन्होंने अपनी संपत्ति का भी खुलासा किया है। आमेर से भाजपा प्रत्याशी सतीश पूनिया के शपथ पत्र के अनुसार, पांच साल में उनकी पत्नी के साथ संपत्ति में 1.96 करोड़ का इजाफा हुआ है। भाजपा प्रत्याशी सतीश पूनिया की 2018 से 2023 के संपत्ति में 78 लाख और पत्नी की संपत्ति में 62 लाख का इजाफा हुआ है।

उनके पास बैंक, नकदी, जेवरात के 49.09 लाख और पत्नी के पास 67.32 लाख रुपए है। उनके पास अभी कुल संपत्ति 3.36 करोड़ और पत्नी मोहिनी के पास 1 करोड़ 59 लाख रुपए है। 2018 में भाजपा के दिगगज नेता सतीश पूनिया के पास 2.58 करोड़ रुपए की संपत्ति थी।

PC:indianexpress

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान में 25 नवम्बर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए राजधानी जयपुर से नामांकन के चौथे दिन 17 उम्मीदवारों ने 25 नामांकन दाखिल किए हैं। उप जिला निर्वाचन अधिकारी नीलिमा तक्षक ने इस बात की जानकारी दी है।

उन्होंने बताया कि विगत चार दिनों में जिले के 14 विधानसभा क्षेत्रों में 28 प्रत्याशियों ने कुल 39 नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से अब तक सर्वाधिक 6 प्रत्याशियों ने 7 नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। वहीं शाहपुरा, चौमूं, हवामहल, सिविल लाइन्स एवं चाकसू विधानसभा क्षेत्र में अभी तक एक भी प्रत्याशी ने नामांकन नहीं किया है।

उन्होंने बताया कि दूदू से कांग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल नागर, आमेर से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी सतीश पूनिया, मालवीय नगर से कांग्रेस प्रत्याशी अर्चना शर्मा, जमवारामगढ़ सुमन मीणा ने नामांकन दाखिल किया है।

इनके अलावा गुरुवार को कोटपूतली से मुकेश गोयल, हंसराज, विराटनगर से टीना यादव, भीमसहन गुर्जर अपना नामांकन पत्र जमा करवाया। किशनपोल से मनोहर लाल, आदर्श नगर विधानसभा से मोहम्मद नदीम, सांगानेर से निशांत माथुर, हरी नारायण मीणा, महेशचंद सैनी और शशांक ने नामांकन किया।

PC:bhaskar